कद्दू के बीज के 16 अद्धभूत फायदे, नुकसान, पोषक-तत्व | pumpkin seeds

28

इस आर्टिकल के जरिये हम बता रहें हैं कि कद्दू के बीज के फायदे और नुकसान क्या हैं और कद्दू के बीज को सेवन करने का सही विधि। (Benefits of Pumpkin Seeds in Hindi) कद्दू के बीज कब, कितना और कैसे सेवन करना चाहिए और कद्दू के बीज में कई तरह के पोषक-तत्व पाएँ जाते हैं और इसकी हल्की तासीर गर्म होती हैं। कद्दू के बीज को सुपरफूड भी कहते हैं।

छोटे आकार का यह कद्दू के बीज बहुत ही फायदेमंद होता हैं। कद्दू के बीज प्राचीनकाल से ही औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा हैं। कद्दू के बीज में विटामिन, मिनिरल्स और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं जो स्वास्थ के लिए बहुत अच्छा होता हैं। कद्दू के बीज के अलावा कद्दू के सब्जी और जूस भी बहुत फायदेमंद होता हैं। कद्दू के बीज नजदीकी ऑफलाइन सुपर मार्केट और ऑनलाइन से भी खरीद सकते हैं। कद्दू के बीज की कीमत 500 से 600 प्रति किलों ऑनलाइन मार्केट में आसानी से मिल जाता हैं।

kaddo ke beej ke fayde our nuksan

कद्दू दो तरह के देखे जाते हैं। एक जो अंदर से सफेद निकलता हैं, जिसके आगरे के पेठे भी बनते हैं और एक अंदर से पीला निकलता हैं, इसका सेवन सब्जी, सूप, रायता जैसे कई और रूप में सेवन करते हैं, दोनों ही बहुत गुणकारी होता हैं। एक का जूस के रूप में सेवन करते हैं और एक का पकने और सूखने के बाद इसके बीज और तेल का सेवन करते हैं। कद्दू के बीज के तेल भी निकाले जाते हैं।

कद्दू के बीज के फायदे (Pumpkin Seeds Benefits in Hindi)

सूजन और जलन में लाभ:-

कद्दू के बीज में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं, जो हमारे शरीर के कोशिकाओं को ख़राब होने से बचाता हैं, जिससे होने वाले किसी-भी प्रकार के सूजन और जलन को कम करने में मदद करता हैं।

अनिंद्रा में लाभ:-

गलत खानपान, गलत लाइफस्टाइल और तनाव, चिंता के कारण अनिद्रा की समस्या होती हैं। हम अच्छी खानपान और अच्छी लाइफस्टाइल से अनिंद्रा की समस्या में सुधार कर सकते हैं, उनमे से कद्दू के बीज भी शामिल हैं।

कद्दू के बीज में ट्रिप्टोफेन नाम का तत्व पाया जाता हैं जो, एक प्रकार का अमीनो एसिड होता हैं जो अनिंद्रा की समस्या में सुधार करने में मदद करता हैं। इसके अलावे कद्दू के बीज में जिंक भी होता हैं जो आगे जाकर ट्रिप्टोफेन और मेलाटोनिन में बदल जाता हैं जो लम्बे समय तक नींद लेने में मदद करता हैं।

कब्ज और पाचन में लाभ:-

अगर आपको पेट से संबंधित कब्ज, पाचन और गैस एसिडिटी की समस्या हैं तो अपने भोजन में फाइबर युक्त खाद्य-पदार्थ को शामिल करें। कद्दू के बीज में फाइबर अच्छे मात्रा में पाया जाता हैं जो कब्ज और पाचन के लिए बहुत अच्छा होता हैं। कद्दू के बीज बिना छिलके के साथ सेवन करना चाहिए, बिना छिलके वाले कद्दू के बीज में फाइबर की मात्रा कम हो जाती हैं। हमें एक दिन में 5 ग्राम फाइबर का सेवन करना अच्छा होता हैं।

ह्रदय के लिए अच्छा:-

कद्दू के बीज ह्रदय को स्वास्थ्य रखने में मदद करता हैं। कद्दू के बीज में एंटीऑक्सीडेंट, मैग्नीशियम, ओमेगा 3 फैटी एसिड और जंक अच्छे मात्रा में पाया जाता हैं दिल के लिए बहुत अच्छा होता हैं। जानवरों के अध्ययन से पता चला कि, कद्दू के तेल LDL कोलेस्ट्रॉल लेवल और उच्च ब्लड-प्रेशर दोनों को कम करता हैं। ये दोनों ही ह्रदय रोग का मुख्य कारण हैं। ह्रदय को स्वास्थ्य रखने के लिए इन दोनों को नियंत्रण रखना बहुत जरूरी होता हैं।

मधुमेह में लाभ:-

कद्दू के बीज के अलावे जूस और बीज के पाउडर सभी मधुमेह लेवल को कम करने में मदद करता हैं, क्योंकि कद्दू के बीज में मैग्नीशियम पाया जाता हैं जो खून में मधुमेह लेवल को कम करने में मदद करता हैं, और तो और यह टाइप 2 मधुमेह खतरा को भी कम करता हैं।

शुक्राणु की गुणवत्ता को बढ़ाना:-

हमारे शरीर में ज़िंक के कमी के कारण शुक्राणु की क्वालिटी में खराबी आ जाती है और किन्हीं-किन्हीं लोगों में यह समस्या खानदानी से चले आने के कारण भी होता हैं, जिसके कारण पुरुषों में बाँझपन की समस्या हो सकती हैं। कद्दू के बीज में ज़िंक अच्छे मात्रा में पाया जाता हैं जो शुक्राणु की गुणवत्ता को बढ़ाने में मदद करता हैं।

रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना:-

कद्दू के बीज और उसके तेल में विटामिन E और कई ऐसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो, हमारे शरीर का रोग-प्रतिरोधक बढ़ाने में मदद करता हैं और धमनियों में रक्त का संचार बनाएँ रखता हैं।

वजन कम करने में मदद:-

कद्दू के बीज में फाइबर पर्याप्त में पाया जाता हैं, जिससे पेट लम्बे समय तक भरा महसूस होता हैं और खाना की मात्रा में कमी आ जाती हैं, जिससे वजन को नियंत्रण रखने में मदद करता हैं।

बाल उगाने में मदद:-

कद्दू के बीज और इसके तेल नया बाल उगाने में माफ़ी मदद करता हैं। अगर आप कद्दू के बीज खाना पसंद नहीं करते हैं तो इसके तेल पुरुषों के गंजापन के उपचार में लाभ देती हैं। कद्दू के बीज में विटामिन E, ओमेगा 3 फैटी एसिड और एस्ट्रोजन पोषक-तत्व होते हैं जो बालों के विकास में मदद देता हैं।

कद्दू के बीज के तेल को सिर में लगाएँ, उसे आधे घंटे तक उसी तरह छोड़ दें, उसके बाद सिर को अच्छी तरह धो लें। कद्दू के बीज बाल उगाने के साथ-साथ बाल को मजबूत, मुलायम और चमकदार बनाने में भी मदद करता हैं।

त्वचा और आँखों के लिए अच्छा:-

कद्दू के बीज में स्क्वालीन अच्छे मात्रा में पाया जाता हैं जो एक एंटीऑक्सीडेंट और बीटा-कैरोटीन की तरह काम करता हैं। स्क्वालीन शरीर के पुरे कोशिका में होता हैं जो सूर्य के अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाती हैं और त्वचा में झुर्रियां, दाग-धब्बे की समस्या को दूर रखती हैं। कद्दू के बीज आँखों की रेटिना को स्वास्थ रखने में मदद करता हैं।

प्रोस्टेट और मूत्राशय में लाभ:-

कद्दू के बीज के सेवन से बिनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया (Benign Prostatic Hyperplasia) के लक्षणों को कम करने में मदद करता हैं, यह एक ऐसी स्थिति हैं, जिसमे प्रोस्टेट ग्रंथि बढ़ जाती हैं, जिसमें पेशाब करने में दिक्कत आती हैं।

खोजकर्ताओं ने यह साबित किया कि कद्दू के बीज बिनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया के लक्षणों दूर कर और इन समस्याओं से जूझ रहें लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करता हैं। लगभग 25% लोगों में इन समस्या का लक्षण पाया जाता हैं।

कैंसर के खतरा को कम करना:-

कद्दू के बीज में कई ऐसे एंटीऑक्सीडेंट गुण पाएँ जाते हैं, जिसके सेवन से फेफड़े, प्रोस्टेट, स्तन और पेट के कैंसर से बचाव करने में मदद मिलता हैं।

एक खोज में पाया गया हैं कि, जिन महिलाओं में मासिक धर्म नहीं होता हैं, उन महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा को कम करता हैं और कद्दू के बीज ब्रेस्ट कैंसर के इलाज में भी लाभ देती हैं।

हड्डियों के लिए अच्छा:-

कद्दू के बीज में मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं जो हड्डी के निर्माण में काफी मदद करता हैं। महिलाओं में मासिक धर्म के बाद होने वाले ऑस्टियोपोरोसिस होने वाले खतरा को कम करता हैं।

गर्भवती महिलाओं में लाभ:-

कद्दू के बीज में ज़िंक अच्छी मात्रा में पाया जाता हैं। जिंक रोग-प्रतिरोधक बढ़ाता हैं और बच्चे का विकास और स्वस्थ रखने में मदद करता हैं। गर्भवती महिला को ज़िंक युक्त खान-पान के सेवन करना बहुत अच्छा होता हैं।

डिप्रेशन और एंग्जायटी को कम करना:-

कद्दू के बीज में मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं जो तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता हैं और हमारे दिमाग को शांत रखने में मदद करता हैं।

ब्लड-प्रेशर में लाभ:-

कद्दू के बीज में पौटेशियम अच्छे मात्रा में होता हैं जो हमारे हाई ब्लड-प्रेशर को नियंत्रण करने में लाभ देता हैं, जिससे हाई ब्लड-प्रेशर के कारण होने वाले समस्याओं से बचे रहते हैं।

kaddo ke beej ke fayde our nuksan

कद्दू के बीज में पाएँ जाने वाले पोषक-तत्व

पोषक-तत्वमात्रा (100 ग्राम)
कैलरीज574
कार्बोहायड्रेट14.70 ग्राम
शुगर1.29 ग्राम
फाइबर6.5 ग्राम
वसा49 ग्राम
प्रोटीन29.8 ग्राम
आयरन8.07 ग्राम
ज़िंक7.99 मिलीग्राम (Mg)
कैल्शियम78.18 मिलीग्राम
मैग्नीशियम90.69 मिलीग्राम
सोडियम20.56 मिलीग्राम
पौटेशियम788 मिलीग्राम
फॉस्फोरस1174 मिलीग्राम
मैंगनीज4.49 मिलीग्राम
विटामिन K4.5 माइक्रोग्राम
विटामिन E0.56 मिलीग्राम
विटामिन C6.5 मिलीग्राम

कद्दू के बीज में इसके अलावे कई और एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन तत्व होते हैं जैसे:- मोनोअनसैचुरेटेड, पॉलीअनसैचुरेटेड और सैचुरेटेड फैट, विटामिन B1, B2, B3, B5, B6, B9 फोलेट, और सेलेनियम पाएँ जाते हैं।

kaddo ke beej me kon kon se poshak tatv payen jate hai.

कद्दू के बीज खाने के नुकसान (Side Effects of Pumpkin Seeds in Hindi)

  • अगर कद्दू के बीज वजन कम करने के लिए सेवन कर रहें हैं तो इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करें। कद्दू के बीज में कैलरीज अधिक मात्रा में होता हैं, अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में करते हैं तो ये वजन घटाने के अलावे बढ़ा देगा।
  • अगर कद्दू के बीज अधिक मात्रा में खा लेते हैं तो पेट में दर्द, पेट फूलना, सूजन, डायरिया, ऐठन और कब्ज की भी समस्या हो सकती हैं।
  • कद्दू के बीज में पोटैशियम और कई एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो ब्लड-प्रेशर को कम करता हैं, जिनका ब्लड-प्रेशर कम हैं या फिर जिन लोगों का ब्लड-प्रेशर कम रहता हैं, उन लोगों को कद्दू के बीज का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती महिला या फिर अपने बच्चे को दूध पिला रही माँ इसका सेवन कम मात्रा में करें या फिर कद्दू के बीज का सेवन डॉक्टर के सलाह पर ही करें।
  • कद्दू के बीज ब्लड शुगर लेवल कम करने में मदद करता हैं। मधुमेह रोगियों द्वारा या फिर जिन लोगों में ब्लड शुगर लेवल कम रहता हैं, जिसे हाइपोग्लाइसिमिया कहते हैं, उन लोगों को कद्दू के बीज का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।
  • कद्दू के बीज बहुत फायदेमंद होता हैं, लेकिन यह शिशु उम्र बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं हैं। कद्दू के बीज में बहुत सारे पोषक-तत्व होते हैं जो छोटे बच्चें जो आसानी से हजम नहीं होती हैं, पेट और पाचन संबंधित समस्या होती हैं।
kaddo ke beej ke nuksan

कद्दू के बीज खाने का तरीका

कद्दू के बीज अच्छे लाभ के लिए, इसका सेवन सही तरीके से करना चाहिए, इसके सेवन करने के कई सारे तरीके हैं।

  1. कद्दू के बीज को सलाद, सूप और खाने में भी ऊपर से डालकर खा सकते हैं।
  2. कद्दू के बीज को स्नैक्स के रूप में कच्चा या फिर भूनकर खा सकते हैं।
  3. कद्दू के बीज में फाइटिक एसिड होता हैं जो पोषक-तत्व के काम करने की क्रिया को कम करता हैं। कद्दू के बीज को भिगोकर और अंकुरित कर सेवन करने से फाइटिक एसिड कम करने में मदद करता हैं।
  4. कद्दू के बीज को सीधे, पाउडर और इसका तेल का भी सेवन कर सकते हैं।
  5. कद्दू के बीज को ब्रेड, केक और पकाकर भी खा सकते हैं।
  6. कद्दू के बीज की तासीर हल्की गर्म होती हैं, इसलिए इसका सेवन भिगोकर करना सही होता हैं।

सावधानियाँ

  • कद्दू के बीज को भूनकर सेवन करने से इसके पोषक-तत्वों में कमी आ जाती हैं।
  • कद्दू के बीज दो रंग के होते हैं, एक हरा और एक सफेद, दोनों ही फायदेमंद होता हैं जो सफेद होता हैं वह ज्यादा गुणकारी होता हैं।
  • कद्दू के आप सीधे कद्दू से बह निकाल सकते हैं और सूपरमार्केट और ऑनलाइन मार्केट से खरीद सकते हैं, ध्यान रखे कि मार्केट का खरीदें हुए बीज नमक न हो, क्योंकि नमक पोषक-तत्वों की मात्रा को कम करता हैं।
  • शिशु उम्र के बच्चों को कद्दू के बीज का सेवन नहीं करने दें।
kaddo ke beej ko sewan krne ka sahi tarika

FAQ. (कद्दू के बीज से सवाल और जबाब)

Q. कद्दू के बीज की तासीर क्या हैं?

Ans:- कद्दू के बीज की तासीर गर्म होती हैं।

Q. कद्दू के बीज कितनी मात्रा में खाना चाहिए?

Ans:- कद्दू के बीज रोज 25 ग्राम तक लें सकते हैं। एक टी चम्मच के आधी चम्मच के बराबर।

Q. कद्दू के बीज का सेवन कैसे करें?

Ans:- कद्दू के बीज का सेवन आप सलाद, स्नेक्स, ड्राई फ्रूट, पाउडर और भिगोकर और अंकुरित करके भी खा सकते हैं।

Q. कद्दू के बीज का सेवन कब करें?

Ans:- कद्दू के बीज का सेवन करने का कोई निश्चित समय नहीं होता हैं, आप कभी भी सुबह, दोपहर और शाम कर सकते हैं, स्नेक्स के रूप में कर सकते हैं।

अन्य पढ़े:-

लौकी जूस पीने के फायदे और नुकसान

मूँगफली खाने के फायदे और नुकसान

गन्ने के जूस पीने के फायदे और नुकसान क्या हैं?

कच्चा मूली खाने के फायदे और नुकसान

सेब के सिरका के फायदे और नुकसान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here