मूली के 17 फायदे और नुकसान | मूली कब और कितना पियें?

291
आज इस पोस्ट में आपको बता रहें की, मूली के सभी फायदे और नुकसान। (Radish Benefits and Side Effects in Hindi) मूली को एक स्वस्थ सब्जी के रूप में माना जाता हैं। उनका मेडिकल नाम राफनस सैटिवस है। मूली की तासीर ठंडी होती हैं। इसके पत्ते भी बहुत फायदेमंद होते हैं। 
 
मूली की कई किस्में होती हैं, जो आकार और रंग में भिन्न होती हैं। लेकिन हम ज्यादातर लाल और सफेद वाले ही मूली देखते हैं। मूली हम खा सकते हैं, जैसे- सब्जी, मूली पराठा, सलाद, कच्ची मूली और अचार खाते हैं। सब्जी और जूस के रूप मूली के पत्तों को भी सेवन करें। मूली में पानी की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। यह हमारे शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है।
muli ke fayde our nuksan

मूली के फायदे (Radish Benefits in Hindi)

कब्ज़:-
 
इसमें पाए जाने वाले फाइबर की वजह से जो लोग कब्ज की समस्या से परेशान रहते हैं, उनके लिए मूली खाना बहुत फायदेमंद होता है। कच्ची मूली को काटकर उसमें थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर सलाद के रूप में खाने से आंतें मजबूत होती हैं। जिससे कब्ज की समस्या हमेशा दूर रहती हो गई।
 
पेट फूलना:
 
जिन लोगों को पेट में गैस, एसिडिटी और पेट में सूजन की समस्या रहती हो, उनके लिए भी मूली का सेवन बहुत करना बहुत फायदेमंद होता है।
 
पीलिया:
 
पीलिया (जॉन्डिस) के मरीजों के लिए भी मूली का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। जिन लोगों को बार-बार पीलिया हो जाता है। वह लोग 50-100 ग्राम मूली के रस में मिश्री मिलाकर पीने से बार-बार होने वाले पीलिया में बहुत आराम मिलता है। पीलिया या लीवर के रोगियों के लिए मूली के पत्ते भी बहुत फायदेमंद होते हैं। पत्तों का रस निकाल कर बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर पीने से पीलिया में बहुत लाभदायक होता है।
 
बवासीर:
 
जो लोग बवासीर की समस्या से परेशान हैं। खूनी या वादी बवासीर है। जिनका मल द्वार पर दर्द या जलन अधिक होता है। ऐसे लोग अगर मूली को सलाद के रूप में लेते हैं, तो यह बवासीर में बहुत फायदेमंद होता है।
 
वजन घटना:
 
जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उनके लिए मूली खाना बहुत फायदेमंद होता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व फाइबर वजन कम करने में मदद करते हैं। अगर आप खाने से पहले 30 मिनट में 50-100 ग्राम खाते हैं, तो यह वजन कम करके और चर्बी को कम करके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है।
 
दांत के लिए अच्छा:
 
मूली खाना हमारे दांतों और हड्डियों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है, क्योंकि मूली में कैल्शियम की मात्रा काफी होती है, जिससे ;हमारे दाँत बहुत मजबूत होते हैं। यह मसूड़ों से खून आने जैसी समस्या को दूर करता है।
 
दिल की बीमारी:
 
मूली में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट के कारण, ये हृदय रोग में भी बहुत फायदेमंद होते हैं। जिससे हमारे शरीर में खून का थक्का नहीं बनने देता, इसलिए मूली खाना दिल के लिए बहुत अच्छा होता है।
 
कैंसर की रोकथाम:
 
मूली को सब्जी या कच्चे के रूप में खाने से, मूली में पाए जाने वाले तत्व हमारे शरीर को कैंसर के खतरे से बचाते हैं। मूली के लगातार सेवन से कैंसर कोशिकाएं नहीं बनती हैं।
 
त्वचा:
 
शरीर में झुर्रियां, फुंसी और सफेद दाग होने से, इनके लिए मूली का सेवन करना भी बहुत अच्छा होता है। सुबह और दोपहर में 50 से 100 ग्राम की मात्रा में मूली का सेवन बहुत अच्छा होता है, जिससे यह हमारी त्वचा में निखार लाता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व हमारी त्वचा के लिए अच्छे होते हैं। 
 
हाई ब्लड प्रेसर:
 
मूली में पोटैशियम की मात्रा पाए जाने के कारण, यह ब्लड प्रेशर को कम करता है। जिन लोगों को ब्लड प्रेशर अधिक रहता है, उन्हें कच्ची मूली के सलाद के रूप में काटकर सुबह और दोपहर को 50-100 ग्राम को खाने से ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।
 
मधुमेह लोग:
 
जिन लोगों को डायबिटीज की बीमारी है, उनके लिए मूली का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व उनके मधुमेह के स्तर को नियंत्रित करते हैं।
 
किडनी के लिए अच्छा:
 
जो लोग किडनी की बीमारी से पीड़ित हैं। जिन्हें बार-बार पेशाब लगनी की समस्या हो। यूरिन इन्फेक्शन और पेशाब में जलन होती है, उनके लिए भी मूली बहुत फायदेमंद होती है। 50-100 ग्राम मूली को खाली पेट खाते हैं या फिर आप मूली के रस का सेवन भी कर सकते हैं। जिससे यूरिनरी इन्फेक्शन या जलन की समस्या दूर होती है।
 
पाचन-तंत्र का बढ़ना:
 
जिन लोगों को लीवर से संबंधित समस्याएँ रहती हो, जिनका पाचन तंत्र ठीक तरह से काम नहीं करता और खाना-पीना ठीक से नहीं पचता, लीवर ठीक से काम नहीं करता। उन लोगों के लिए भी मूली का सेवन बहुत फायदेमंद करता है। इसमें पाया जाने वाला फाइबर पाचन-तंत्र बढ़ाने में मदद करता है। अगर आप 50 ग्राम मूली का रस सुबह और खाना खाने से 30 मिनट पहले लेते हैं, तो यह लीवर को साफ करने में मदद करता है।
 
खांसी और सर्दी:
 
मूली में भरपूर मात्रा में विटामिन C होता है, इस वजह से मूली सर्दी, खांसी और जुकाम को रोकने में मदद करती है।
 
एनीमिया:
 
मूली का लगातार सेवन शरीर में खून की कमी को पूरा करने में मदद करता है। यह लाल रक्त-कोशिका को टूटने से रोकता है। यह रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है। यह रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।
 
बाल झड़ने की समस्या:
 
मूली का बार-बार सेवन करने से बालों का झड़ना कम होता है और बालों का झड़ना बंद हो जाता है।
muki ke juice

मूली में पाए जाने वाले पोषक तत्व

  • कार्बोहाइड्रेट 14 ग्राम
  • कैलोरी 12
  • फाइबर 5 ग्राम
  • एंटीऑक्सिडेंट
  • विटामिन C
  • विटामिन K
  • विटामिन B6
  • फोलिक एसिड
  • कैल्शियम
  • मैगनीशियम
  • पोटैशियम
  • प्रोटीन
  • जस्ता
  • तांबा 
  • सोडियम
  • फास्फोरस 
  • फोलेट
  • नियासिन

muli ke salad

मूली कब कैसे और खाएँ 

मूली देर से पचने वाला सब्जी है। मूली का सेवन सुबह और दोपहर के समय ही करें। शाम के समय इसका सेवन नहीं करना चाहिए। एक बार में 50-100 ग्राम से ज्यादा मूली न खाएँ। यदि मूली को सलाद के रूप में खाते समय थोड़ा-थोड़ा करके ही खाएँ और थोड़ा खाना खाने के बाद मूली खाना शुरू करें। 

मूली के साथ न खाएँ 

अधिक खट्टी और कड़वी चीजों के साथ मूली का सेवन नहीं करना चाहिए। जैसे – करेला, संतरा, खट्टे चीजें और दूध के साथ मूली का सेवन नहीं करना चाहिए। मूली दूध के साथ सेवन करने से हमारे शरीर में कई तरह के त्वचा रोग हो जाते हैं। मछली के साथ भी मूली का सेवन नहीं करना चाहिए। मूली का सेवन छोले और तली हुई चीजों के साथ भी नहीं करना चाहिए।
 
 
(नोट:- अगर आपको इस पोस्ट में कुछ जानकारियाँ नहीं मिली हो तो, कमेंट जरूर करें और इस पोस्ट को व्हाट्सप्प में अधिक लोगों के साथ शेयर करें)
 
 
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here