हस्तमैथुन (Masturbation) के लत से अपने आप को कैसे निकालें।

1402

आज हम आपको इस आर्टिकल में बता रहें कि, हस्तमैथुन के लाभ और हानियाँ। कोई इंसान सेक्स की जरूरत दो तरीके से पूरा करता हैं। पहला अपना पत्नी या गर्ल फ्रेंड के साथ शारीरिक संबंध रखकर, दूसरा हस्तमैथुन करके।

वह क्रिया जिसमे इंसान अपने आप से सेक्स की जरूरत पूरा करना हस्तमैथुन कहलाता हैं। जिसमें हम हाथों के जरिये लिंग को ऊपर-नीचे घर्षण करते हैं, जिसमें हमें सेक्स का आनंद मिलता हैं और कुछ समय बाद लिंग से वीर्य बाहर निकलता हैं। कुछ लोग हस्तमैथुन लिंग को बेड और तकिये में रफ करके भी करते हैं। खोजकर्ता के अनुसार 95% पुरुष और 88% महिला कभी-ना-कभी हस्तमैथुन जरूर करती हैं। खोजकर्ताओं का यह भी कहना हैं कि, 70% शादी-सुदा लोग भी हस्तमैथुन करते हैं।

हस्तमैथुन करना सही या गलत

लोगों का अक्सर कहना हैं कि, हस्तमैथुन नहीं करना चाहिए, इससे बहुत तरह की कमजोरी आती हैं। इससे आपका सेक्स जीवन ख़राब हो जायगा, आप अपने पत्नी को सेक्स के प्रति संतुष्ट नहीं कर पाएगें और आपका शादी-सुदा जीवन खराब हो जायगा। लोगों का यह भी कहना हैं कि, इससे वीर्य पतला होता हैं, शीघ्रपतन, हड्डियों से आवाज आना और आँखों की रौशनी कम होती हैं। 
 
मेडिकल साइंस का कहना हैं कि, हस्तमैथुन से इनमे से किसी तरह का समस्या नहीं होती हैं। अक्सर शादी से पहले सभी लोग हस्तमैथुन करते हैं और इसको करने में कोई बुराई नहीं हैं। दोस्तों 12 से 14 वर्ष के अन्दर हमारे शरीर में सेक्स हार्मोन के साथ-साथ कई और हार्मोन का विकास होता हैं और बहुत सारे हार्मोन में बदलाव होता हैं। दाढ़ी, मूँछ और पैर-हाथों में बाल आना, इन हार्मोन का पहचान हैं। 
 
इन हार्मोन में बदलाव के कारण, हमारे अन्दर विपरीत लिंग (Gender) के प्रति आकर्षण पैदा होता हैं। लड़के का मन करता हैं कि, लड़की से बात करें और लड़की का मन करता हैं कि, लड़के से बात करें और इस विपरीत लिंग (Gender) से आकर्षित होने के कारण, हमारे मन में सेक्स करने का विचार आता हैं, इसी सेक्स विचार के कारण, लोग हस्तमैथुन करते हैं और वीर्य को शरीर से बाहर निकालता हैं इसमें कोई बुराइयाँ नहीं हैं। यह एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया हैं और यह शरीर का एक अंग हैं।
 
हमारे शरीर में प्रतिदिन वीर्य बनता हैं। हमारे शरीर के अन्दर कोई ऐसा स्टोर करने वाला नहीं होता, जिसके जरीये वीर्य हम जमा करके रख सकें। जिस तरह एक पानी का टंकी पानी भरने के बाद, अगर पानी बाहर नहीं निकाला जाएँ तो, पानी अपने आप बाहर निकल जाता हैं, उसी प्रकार अगर हस्तमैथुन नहीं किया जाएँ तो, वीर्य भी अपने आप बाहर निकलता हैं।
 
वीर्य अपने आप रात को सोते समय या पेशाब करते समय पेशाब के साथ निकलता हैं। जिसे हम स्वप्नदोष और धात-रोग कहते हैं। अगर जमा वीर्य को हस्तमैथुन द्वारा बाहर नहीं निकाला जाएँ तो, वह फोरस्टेड में जाकर इंफेक्शन करता हैं। वीर्य गति को कभी नहीं रोकना चाहिए। लोग अक्सर करते हैं, जिस समय वीर्य बाहर नहीं रहा हो, उस समय वीर्य को कभी नहीं रोकना चाहिए। ऐसा करने आगे चलकर समस्या का सामना करना पड़ सकता हैं। 
 

आयुर्वेद हस्तमैथुन के बारे में क्या कहता हैं

आयुर्वेद के अनुसार जब हम कुछ खाते हैं तो, वह सात रास्ते होकर गुजरता हैं। रस (Chyle), रक्त (Blood), मनसा (Flesh), मेदा (Fattty Tissue), अस्थी (Bone), मज्जा (Bone Marrow), शुक्र (Semen) ये सात धातु हैं। इन्हें सप्त धातु भी कहा जाता हैं। यह पूरा प्रक्रिया में लगभग होने में 35 दिन लगता हैं। शुक्र धातु ही मर्दो में वीर्य के रूप में जाना जाता हैं और इसी को लड़कियों में रज का नाम दिया गया हैं। 
 
आयुर्वेद का कहना हैं कि, शुक्र धातु बचपन से ही हमारे हर एक सैल में पायी जाती हैं, ओजस के रूप में, जहाँ शुक्र धातु सेक्स द्वारा एक नई जीवन देने का क्षमता रखता हैं। शुक्र धातु शरीर कोशिकाओं में पाएँ जाने के कारण, यह सेक्स के प्रति आकर्षित, सुंदरता, जोश, एनर्जी, खुशी और अच्छी स्वस्थ जीवन जीने में मदद करता हैं। इसलिए आ